Loading

wait a moment

अब जियो से अन्य नेटवर्क पर कॉल करने के देने होंगे 6 पैसे प्रति मिनट, JIO ग्राहकों के लिए टैरिफ में कोई वृद्धि नहीं

जियो ने कहा कि हमें उम्मीद है कि IUC शुल्क वर्तमान रेगुलेशन के अनुसार खत्म हो जाएगा और यह अस्थायी शुल्क 31 दिसंबर 2019 तक पूरी तरह समाप्त हो जाएगा इसके बाद उपभोक्ताओं को इस शुल्क का भुगतान नहीं करना पड़ेगा।

नई दिल्ली। 10 अक्टूबर से जियो से दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने पर आपको 6 पैसे प्रति मिनट चार्ज देना होगा। हालांकि अगर आप जियो से जियो पर कॉल करते हैं तो इसके लिए आपको कोई शुल्क नहीं देना होगा। दरअसल ये शुल्क इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज(ICU) द्वारा निर्धारित शुल्क के तहत जियो को लेना होगा।

क्या है कि इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज या IUC

बता दें कि इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज या IUC एक मोबाइल टेलिकॉम ऑपरेटर द्वारा दूसरे को भुगतान की जाने वाली रकम है। जब एक टेलीकॉम ऑपरेटर के ग्राहक दूसरे ऑपरेटर के ग्राहकों को आउटगोइंग मोबाइल कॉल करते हैं तब IUC का भुगतान कॉल करने वाले ऑपरेटर को करना पड़ता है। दो अलग-अलग नेटवर्क के बीच ये कॉल मोबाइल ऑफ-नेट कॉल के रूप में जानी जाती हैं। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा IUC शुल्क निर्धारित किए जाते हैं और वर्तमान में यह 6 पैसे प्रति मिनट हैं।

बता दें कि ट्राई ने 2011 से बार-बार यह कहा है कि IUC शुल्क शून्य किया जाना चाहिए। ट्राई की राय है कि टर्मिनेशन शुल्क में लगातार कमी की जानी चाहिए और आखिर में इसे समाप्त किया जाना चाहिए। जिसके मुताबिक वर्तमान से 2 साल के अंत तक हो जाना चाहिए।”

1 अक्टूबर 2017 से मोबाइल कॉल के लिए IUC, 14 पैसे प्रति मिनट चार्ज था जिसे घटाकर 6 पैसे प्रति मिनट कर दिया गया। संशोधनों के प्रभाव को देखें तो मोबाइल कॉल के लिए IUC 1 जनवरी 2020 से ZERO होगा।

जियो ने जारी की प्रेस रिलीज

जियो की तरफ से जारी एक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि, “ट्राई के रुख और पहले से ही IUC को शून्य तक कम करने वाले नियमों में किए गए संशोधन के आधार पर, Jio ने अपने ग्राहकों को मुफ्त वॉयस कॉल की सुविधा देने के लिए Airtel और Vodafone-Idea आदि को अपने स्वयं के संसाधनों से IUC का भुगतान जारी रखा। अब तक, पिछले तीन वर्षों में Jio ने अन्य ऑपरेटरों को IUC शुल्क के रूप में लगभग 1,3,500 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।”

इन पर कोई शुल्क नहीं लगेगा

जियो ने बताया कि, “जियो से जियो कॉल करने पर, सभी इनकमिंग कॉल पर, लैंडलाइन कॉल पर और व्हाट्सएप या फेसटाइम और इसी तरह के प्लेटफॉर्म का उपयोग करके की गई कॉल पर कोई शुल्क नहीं देना होगा।”

इन पर शुल्क देना होगा

जियो से अन्य नेटवर्क पर कॉल करने पर 6 पैसे प्रति मिनट देना होगा।

इसके लिए जियो की तरफ से कुछ टॉप-अप वाउचर निकाले गए हैं जिसे ग्राहक अपनी सुविधा के अनुसार रिचार्ज करा सकते हैं। खास बात ये है कि IUC टॉप-अप वाउचर की कीमत के बराबर Jio अतिरिक्त डेटा भी प्रदान करेगा। इसका अर्थ है कि ग्राहकों के लिए टैरिफ में कोई वृद्धि नहीं हुई है।

इसके लिए जियो ने 10 रुपये से लेकर 100 रुपये तक के प्लान्स जारी किए हैं। 10 रुपये के प्लान में यूज़र्स को दूसरे नेटवर्क पर 124 मिनट की कॉलिंग जबकि 20 रुपये में 249 मिनट की कॉलिंग सुविधा मिलेगी। वहीं 50 रुपये में 656 मिनट और 100 रुपये वाले प्लान में 1362 मिनट की कॉलिंग सुविधा मिलेगी। हालांकि इसकी भरपाई के लिए कंपनी इसी के मूल्य के बराबर डेटा यूज़र्स को देगी। 10 रुपये के टॉपअप पर 1 जीबी, 20 रुपये पर 2 जीबी, 50 रुपये पर 5 जीबी और 100 रुपये पर 10 जीबी डेटा मिलेगा।

अपने प्रेस रिलीज में जियो ने कहा कि Jio फिर से अपने 35 करोड़ ग्राहकों को आश्वस्त करता है कि आउटगोइंग ऑफ-नेट मोबाइल कॉल पर 6 पैसा प्रति मिनट का शुल्क केवल तब तक जारी रहेगा जब तक TRAI अपने वर्तमान रेगुलेशन के अनुरूप IUC को समाप्त नहीं कर देता। हम TRAI के साथ सभी डेटा को साझा करेंगे ताकि वह समझ सके कि शून्य IUC उपभोक्ताओं के सर्वोत्तम हित में है। और भारी संख्या में मिस्ड कॉल ने कैसे असंतुलन पैदा किया है।

जियो ने कहा कि हमें उम्मीद है कि IUC शुल्क वर्तमान रेगुलेशन के अनुसार खत्म हो जाएगा और यह अस्थायी शुल्क 31 दिसंबर 2019 तक पूरी तरह समाप्त हो जाएगा इसके बाद उपभोक्ताओं को इस शुल्क का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। इस बीच, उपभोक्ता IUC टॉप-अप वाउचर के बदले अतिरिक्त डेटा एंटाइटेलमेंट का आनंद लेना जारी रख सकते हैं ताकि 31 दिसंबर 2019 तक प्रभावी टैरिफ वृद्धि न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *